Cart (0)
Digital Cart (0)
Shortlist 0
Some error has occured while getting your complete shortlist. Retry
Use this space to shortlist the products you like. To add a product here, simply click the icon.
You can't compare with the above items. (Clear all items in the Compare list)

Bankelal Digest (Book 6)

(Paperback)
Paperback
Language: Hindi
Length: 96 pages
Publisher: Raj Comics
This product is Permanently discontinued.

Bankelal Digest (Book 6) (Paperback) Price: Rs. 50

देवता की मणि/राजा विक्रम सिंह बांकेलाल को साथ ले कर निकले तो थे प्रजा का हाल जानने के लिए लेकिन बांकेलाल उन्हें ले गया कंकड़ बाबा के आश्रम में. वहाँ कंकड़ बाबा की बीस वर्षों कि तपस्या को ढोंग बता कर उसने विक्रम सिंह के द्वारा उनकी तपस्या को भंग करा दिया जिससे क्रुद्ध हो कर कंकड़ बाबा ने राजा विक्रम सिंह को दो वर्षों में चोरासी लाख योनियाँ भुगतने का श्राप दे डाला. इस तरह बांकेलाल की योजना तो सफल हो गयी किन्तु उसकी फूटी किस्मत ने यही श्राप उसे भी दिलवा दिया. शुरुआत हुई है राक्षसयोनि से. विक्रम सिंह और बांकेलाल बन गए हैं राक्षस.बांकेलाल कंकाल लोक में/क्रोधित कंकड़ बाबा के श्राप से इस बार बांकेलाल और विक्रम सिंह बन गए हैं कंकाल और जा पहुंचे हैं कंकाल लोक में. कंकाल लोक में कुकरमुत्तों और मियाऊँ कुत्तों के बीच कट्टर दुश्मनी थी. बांकेलाल और विक्रम सिंह फंस गए हैं इन दोनों की दुश्मनी के बीच में. अब दोनों को पड़ गए हैं जान के लाले.बांकेलाल देवलोक में/कंकड़ बाबा के श्राप ने इस बार बांकेलाल और विक्रम सिंह को देव योनि दे कर पहुंचा दिया देवलोक में. देवलोक के प्रवेश द्वार पर ही बांकेलाल हो जाता है देवताओं द्वारा अपमानित. अपने अपमान का बदला लेने के लिए बांकेलाल देवराज इंद्र के खिलाफ ही चल देता है चाल. क्या देवलोक मे बांकेलाल कि चाल सफल हो पाएगी या यहाँ भी उसकी फूटी किस्मत फूटी ही रहेगी?
Was this product information helpful?
Yes
No
Thanks for your vote!
Please write your feedback before submitting.

Specifications of Bankelal Digest (Book 6) (Paperback)

Book Details
Publisher Raj Comics
ISBN-10 5111126904
Number of Pages 96 Pages
Publication Year 2011
Language Hindi
ISBN-13 9785111126904
Binding Paperback
Contributors
Author Tarun Kumar Wahi
Was the product specification helpful?
Yes
No
Thanks for your vote!
Please write your feedback before submitting.

Please Note: All products sold on Flipkart are brand new and 100% genuine

Reviews of Bankelal Digest (Book 6) (Paperback)

Have you used this product?

Rate it now.

No reviews available.
 

PAYMENT METHOD

POWERED BY
Loading ...