adrshy prem / अदृश्य प्रेम

adrshy prem / अदृश्य प्रेम (Hindi, Paperback, अविनाश अकेला)

Share

adrshy prem / अदृश्य प्रेम  (Hindi, Paperback, अविनाश अकेला)

5
2 Ratings & 1 Reviews
Special price
₹90
125
28% off
Coupons for you
  • Special Price₹100 off with cashback coupon on First Order
    T&C
  • Available offers
  • Bank Offer10% off on Axis Bank Credit Card and Credit Card EMI Trxns,up to ₹1500. On orders of ₹5000 and above
    T&C
  • Bank Offer10% off on ICICI Bank Credit Cards (incl. EMI Txns), up to ₹1,500. On orders of ₹5,000 and above
    T&C
  • Bank Offer8% off on Flipkart Axis Bank Credit Card, up to ₹1,500. On orders of ₹5,000 and above
    T&C
  • Partner OfferBuy this product and get upto ₹250 off on Flipkart Furniture
    Know More
  • Delivery
    Check
    Enter pincode
      Usually delivered in3 days
      ?
      Enter pincode for exact delivery dates/charges
    View Details
    Highlights
    • Language: Hindi
    • Binding: Paperback
    • Publisher: Notion Press
    • Genre: Fiction
    • ISBN: 9781645469810, 1645469816
    • Edition: 1, 2019
    • Pages: 110
    Seller
    Repro Books on Demand
    4.1
    • 7 Days Replacement Policy
      ?
    Description
    अब बदलते जमाना के हिसाब से अब सब कुछ बदल रही हैं , इसी बदलाब की दौड़ में अब मोहब्बत करने की अंदाज भी बदलता जा रहा हैं . जहाँ लोग पहले अपने प्रेमी से बिछड़ने के बाद वर्षो तक उसे भूल नही पाते थे और आजकल लोग ब्रेकअप पार्टी मना रहे हैं . यह कहानी इन सब लोगो से बिलकुल अलग हैं. इसके पात्र ना तो ब्रेकअप पार्टी मनाने वाले में से हैं और नही इतनी जल्दी अपने मोहब्बत को भूलने वालों में से हैं . इस कहानी के पात्र स्नेहा को एक एसे लड़के से प्यार हो जाती हैं जो उसके घर में कई वर्षो से नौकर हुआ करता हैं . अपने नौकर से प्यार करना कोई बड़ी बात नही हैं ,परन्तु अपने नौकर द्वारा अपने प्यार को ठुकरा जाना बहुत बड़ी बात होती हैं . स्नेहा के नौकर अर्थात मनु यह कह कर उसके प्यार को ठुकरा देती हैं की वो अपने मालिक के साथ ऐसा कोई काम नही करेगा जिससे उसके मालिक को सर नीचा करना पड़ें . परन्तु कुछ वर्ष बाद स्नेहा को मालूम पड़ती हैं की वह लड़का भी मुझसे प्रेम करता हैं मगर सिर्फ अदृश्य प्रेम . इधर स्नेहा उसे तन-मन धन से अपना मान लेती हैं और कुछ वर्ष बाद मनु हमेशा -हमेशा के लिए बिछड़ जाता हैं परन्तु उसके इन्तजार में स्नेहा पूरी लाइफ शादी नही करने का प्रण ले लेती हैं . जबकि स्नेहा को मालूम हैं वो मुझे छोड़ कर चला गया हैं .वो कभी वापस नही आएगा . 23 वर्ष बाद पुनः दोनों के मुलाकात होती हैं . परन्तु सवाल यह हैं ! क्या वह पुनः एक दुसरे से प्यार कर पाएंगे या फिर ......... .
    Read More
    Specifications
    Book Details
    Publication Year
    • 2019
    Contributors
    Author Info
    • मेरा नाम अविनाशअकेला हैं , मैं बिहार से हूँ . मैं उस मिटटी का लाल हूँ जिस मिट्टी ने कई महान हस्तियाँ को जन्म दिया हैं . मैं कोई बहुत बड़ा लेखक नही हूँ लेकिन ! मुझे हिंदी के छोटे - छोटे शब्दों से प्यार हैं . और यही कारण हैं की मैं कुछ शब्दों के साथ समझौता कर छोटी -छोटी कहानियां लिखता रहता हूँ . मैं अपनी सभी कहानी को अपनी वेबसाइट https://www.storybaaz.com पर पब्लिश करता रहता हूँ .जिसे पाठक काफी सराहते हैं . मैंने एक नया नॉवेल " अदृश्य प्रेम " लिखा हैं जो अब आप लोग के बीच उपलब्ध हैं . उसे भी आप लोग काफी प्यार दे रहे हैं .उम्मीद करता हूँ यह नॉवेल आपके दिल को छू जायेगा .
    Ratings & Reviews
    5
    2 Ratings &
    1 Reviews
    • 5
    • 4
    • 3
    • 2
    • 1
    • 2
    • 0
    • 0
    • 0
    • 0
    5

    Best in the market!

    This story book is mindblowing .
    Really heart touching love story.

    I just love this.
    READ MORE

    suman

    Certified Buyer, Nalanda District

    Jun, 2019

    2
    0
    Report Abuse
    Have doubts regarding this product?
    Safe and Secure Payments.Easy returns.100% Authentic products.
    Back to top