Chintan ke Jansarokar

Chintan ke Jansarokar  (Hindi, Paperback, Premkumar Mani)

Be the first to Review this product
₹150
i
Available offers
  • Bank OfferGet ₹50 instant discount on first Flipkart UPI txn on order of ₹200 and above
    T&C
  • Bank Offer5% Cashback on Flipkart Axis Bank Card
    T&C
  • Partner OfferSign-up for Flipkart Pay Later & get free Times Prime Benefits worth ₹20,000*
    Know More
  • Partner OfferMake a purchase and enjoy a surprise cashback/ coupon that you can redeem later!
    Know More
  • Delivery
    Check
    Enter pincode
      Delivery by31 May, Friday|65
      ?
    View Details
    Author
    Read More
    Highlights
    • Language: Hindi
    • Binding: Paperback
    • Publisher: The Marginalised Publication
    • Genre: Literature & Fiction
    • ISBN: 9788193258408, 8193258401
    • Edition: First, 2016
    Services
    • Cash on Delivery available
      ?
    Seller
    ForwardPress
    4.4
    • 7 Days Replacement Policy
      ?
  • See other sellers
  • Description
    ‘चिंतन के जनसरोकार’ प्रेमकुमार मणि के विविध लेखों का संग्रह है। इसके दो खण्ड हैं। पहले खण्ड में समाज और राजनीति पर केंद्रित लेख हैं, तो दूसरे खण्ड में साहित्य व संस्कृति से संबंधित लेखों को रखा गया है। इस किताब के विविध लेख पाठक को इतिहास, समाज, अर्थव्यवस्था, संस्कृति और साहित्य को देखने का एक नया नजरिया प्रदान करते हैं। एक तरफ मणि जी भारत के महानायकों आंबेडकर, रविन्द्रनाथ टैगोर और गांधी के चिन्तन पर विचार करते है, तो दूसरी तरफ पश्चिमी विचारक बर्ट्रेंड रसेल से भी संवाद कायम करते हैं। भारतीय राजनीति पर लेखक की पैनी निगाह है। दलित-बहुजनों की राजनीति की सामर्थ्य और सीमा को लेखक सामने लाता है, हिंदुत्व की राजनीति के उभार और विस्तार के कारणों का भी विवेचन किया गया है। बहुजन साहित्य और साहित्य में जाति-विमर्श पर दो लेख हैं। “किसकी पूजा कर रहे हैं बहुजन?” शीर्षक लेख ने हिंदी पट्टी में एक विचारोत्तेजक बहस को जन्म दिया था। यह लेख भी इस किताब में संग्रहित है। अपने शिल्प और बुनावट में पाठकों से संवाद करती हुई, यह अत्यन्त पठनीय और विचारोत्तेजक किताब है। किसी किताब की सबसे बड़ी सार्थकता यह होती है कि वह पाठक की संवेदना को झकझोरे और उसकी वैचारिकी को व्यापक बनाए। इन दोनों कसौटियों पर भी ‘चिंतन के जनसरोकार’ किताब खरी उतरती है।
    Read More
    Specifications
    Book Details
    Publication Year
    • 2016
    Dimensions
    Weight
    • 165 g
    Frequently Bought Together
    1 Item
    150
    1 Add-on
    140
    Total
    290
    Have doubts regarding this product?
    Safe and Secure Payments.Easy returns.100% Authentic products.
    You might be interested in
    Language And Linguistic Books
    Min. 50% Off
    Shop Now
    Politics Books
    Min. 50% Off
    Shop Now
    Economics Books
    Min. 50% Off
    Shop Now
    Industrial Studies Books
    Min. 50% Off
    Shop Now
    Back to top