Indonesia Mein Hindu Punarutthan

Indonesia Mein Hindu Punarutthan (Hindi, Paperback, Ravi Kumar)

Share

Indonesia Mein Hindu Punarutthan  (Hindi, Paperback, Ravi Kumar)

Be the first to Review this product
₹174
200
13% off
Hurry, Only few left!
Available offers
  • Bank Offer5% Unlimited Cashback on Flipkart Axis Bank Credit Card
    T&C
  • Bank OfferExtra 5% off* with Axis Bank Buzz Credit Card
    T&C
  • No Cost EMI on Flipkart Axis Bank Credit Card
    T&C
  • Delivery
    Check
    Enter pincode
      Usually delivered in6-7 days
      ?
      Enter pincode for exact delivery dates/charges
    View Details
    Author
    Read More
    Highlights
    • Language: Hindi
    • Binding: Paperback
    • Publisher: Prabhat Prakashan
    • Genre: Religion
    • ISBN: 9789352666898, 9352666895
    • Edition: 1, 2018
    • Pages: 128
    Services
    • 10 Days Replacement Policy
      ?
    • Cash on Delivery available
      ?
    Seller
    NehaPublishers
    2.9
    • 10 Days Replacement Policy
      ?
  • View more sellers starting from 167
  • Description
    भारत में बहुत से लोगों को हमारे पूर्वजों द्वारा दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों इंडोनेशिया, मलेशिया, सिंगापुर, थाईलैंड, कंबोडिया, वियतनाम आदि में पहली शताब्दी ईसापूर्व से 17वीं शताब्दी तक स्थापित हिंदू साम्राज्यों के गौरवशाली इतिहास के बारे में जानकारी नहीं है। उनकी राजनीतिक विजय उनके अधीनस्थ क्षेत्रों की सीमाओं तक अवश्य उल्लेखनीय थी, लेकिन उससे भी बड़ी जीत भारतीय विचारों का प्रचार-प्रसार था। दक्षिण-पूर्व एशिया में मुख्य भूमि और द्वीप समूह, दोनों की सभ्यता पूरी तरह भारत से प्रेरित थी। श्रीलंका, बर्मा, स्याम, कंबोडिया, चंपा और जावा में धर्म, कला, वर्णमाला, साहित्य आदि के साथ-साथ जो विज्ञान और राजनीतिक संगठन अस्तित्व में थे, वे सब हिंदू धर्म की ही देन थे। विश्व में एकमात्र हिंदू ही है, जिसने दासता, आर्थिक प्रतिबंधों, बलात्कार, लूट, आगजनी, सांस्कृतिक धरोहरों के विनाश, धार्मिक स्थलों की अपवित्रता और पवित्र प्रतीकों को नष्ट किए बिना इन सब देशों पर शासन किया; साथ ही उनकी संस्कृति और सभ्यता को भी बढ़ावा दिया। इंडोनेशिया में हिंदू-संस्कृति के पुनरुत्थान का दिग्दर्शन करानेवाली पठनीय एवं महत्त्वपूर्ण पुस्तक।
    Read More
    Specifications
    Publication Year
    • 2018
    Number of Pages
    • 128
    More Details
    • Generic Name
      • Books
    Have doubts regarding this product?
    Safe and Secure Payments.Easy returns.100% Authentic products.
    You might be interested in
    Body, Mind and Spirit Books
    Min 10% off
    Shop Now
    Biographies and Autobiographies
    Min 10% off
    Shop Now
    Philosophy Books
    Min 10% off
    Shop Now
    Other Self-Help Books
    Min 10% off
    Shop Now
    Back to top