Shiv Se Shankar Tak

Shiv Se Shankar Tak (Hindi, Paperback, Devdutt Pattanaik)

Share

Shiv Se Shankar Tak  (Hindi, Paperback, Devdutt Pattanaik)

4.4
19 Ratings & 2 Reviews
₹239
265
9% off
  • Bank Offer5% off* on EMI transactions with HDFC Bank Credit Cards
    T&C
  • Bank OfferExtra 5% off* with Axis Bank Buzz Credit Card
    T&C
  • Delivery
    Check
    Enter pincode
      Usually delivered in4-5 days
      ?
      Enter pincode for exact delivery dates/charges
    View Details
    Author
    Read More
    Highlights
    • Language: Hindi
    • Binding: Paperback
    • Publisher: Rajpal & Sons
    • Genre: Religion & Spirituality
    • ISBN: 9789350642634, 9350642638
    • Edition: 1, 2017
    • Pages: 160
    Services
    • 10 Days Replacement Policy
      ?
    • Cash on Delivery available
      ?
    Seller
    NehaPublishers
    2.4
  • View more sellers starting from 205
  • Description
    प्रखर तपस्वी शिव, हिन्दू धर्म के सर्वाधिक पूजे जाने वाले देवता हैं। शरीर पर शेर की खाल ओढ़े, सिर पर जटाएँ बाँधे, गर्दन में एक साँप लपेटे दूर-दराज़ के ठंडे और वीरान कैलाश पर्वत पर रहने वाले शिव के कई रूप हैं। कहीं तो वह कैलाश पर्वत पर धूनी रमाये योगी का रूप लेते हैं और कहीं अपनी पत्नी पार्वती के साथ गृहस्थ का रूप धारण करते हैं। हिन्दुओं के लिए शिव अति पूजनीय हैं और उनकी आराधना का सबसे लोकप्रिय प्रतीक रूप है शिवलिंग। क्या यह शिवलिंग मात्र एक यौन का प्रतीक है - कई विद्वानों का तो ऐसा ही मानना है, किन्तु कई इससे सहमत नहीं हैं। शिव के लिंग रूप के यथार्थ का केन्द्र है यह पुस्तक। इस लिंग रूप प्रतीक के आध्यात्मिक संकेतों और अर्थों को समझने के लिए शिव-भक्ति के साथ जुड़े सभी कर्मकांड, प्रतीक और कथाओं के गहन शोध के बाद आम पाठक के लिए प्रस्तुत है यह अति रोचक और ज्ञानवर्धक पुस्तक।
    Read More
    Specifications
    Book Details
    Publication Year
    • 2017
    Contributors
    Author Info
    • प्रखर तपस्वी शिव, हिन्दू धर्म के सर्वाधिक पूजे जाने वाले देवता हैं। शरीर पर शेर की खाल ओढ़े, सिर पर जटाएँ बाँधे, गर्दन में एक साँप लपेटे दूर-दराज़ के ठंडे और वीरान कैलाश पर्वत पर रहने वाले शिव के कई रूप हैं। कहीं तो वह कैलाश पर्वत पर धूनी रमाये योगी का रूप लेते हैं और कहीं अपनी पत्नी पार्वती के साथ गृहस्थ का रूप धारण करते हैं। हिन्दुओं के लिए शिव अति पूजनीय हैं और उनकी आराधना का सबसे लोकप्रिय प्रतीक रूप है शिवलिंग। क्या यह शिवलिंग मात्र एक यौन का प्रतीक है - कई विद्वानों का तो ऐसा ही मानना है, किन्तु कई इससे सहमत नहीं हैं। शिव के लिंग रूप के यथार्थ का केन्द्र है यह पुस्तक। इस लिंग रूप प्रतीक के आध्यात्मिक संकेतों और अर्थों को समझने के लिए शिव-भक्ति के साथ जुड़े सभी कर्मकांड, प्रतीक और कथाओं के गहन शोध के बाद आम पाठक के लिए प्रस्तुत है यह अति रोचक और ज्ञानवर्धक पुस्तक।
    Ratings and Reviews
    4.4
    19 Ratings &
    2 Reviews
    • 5
       13
    • 4
       4
    • 3
       0
    • 2
       0
    • 1
       2
    5

    Simply awesome

    I always being in search of new or mysterious facts of lord Shiva that how it could be related to Current lifestyle , this is my second purchase after shiv k 7 rahasya and I am quite impressed
    READ MORE

    Gaurav Singh

    Certified Buyer

    20 Aug, 2017

    1
    1
    Report Abuse
    5

    Great product

    Keep writing
    READ MORE

    Abhay Pratap Singh Thakur

    Certified Buyer

    17 Jul, 2017

    0
    0
    Report Abuse
    Have doubts regarding this product?
    Safe and Secure Payments.Easy returns.100% Authentic products.
    Back to top