Yantra Tatvam

Yantra Tatvam (Hindi, Hardcover, Guru Gaurav Arya)

Share

Yantra Tatvam  (Hindi, Hardcover, Guru Gaurav Arya)

Be the first to Review this product
₹289
300
3% off
Available offers
  • Bank Offer5% Unlimited Cashback on Flipkart Axis Bank Credit Card
    T&C
  • No Cost EMI on Flipkart Axis Bank Credit Card
    T&C
  • Delivery
    Check
    Enter pincode
      Usually delivered in3 days
      ?
      Enter pincode for exact delivery dates/charges
    View Details
    Author
    Read More
    Highlights
    • Language: Hindi
    • Binding: Hardcover
    • Publisher: Notion Press
    • Genre: Religion
    • ISBN: 9781645462057, 1645462056
    • Edition: 1, 2019
    • Pages: 102
    Services
    • 7 Days Replacement Policy
      ?
    • Cash on Delivery available
      ?
    Seller
    Repro Books on Demand
    3.5
    • 7 Days Replacement Policy
      ?
  • View more sellers starting from 289
  • Description
    मानव को अपने जीवन में जिस चीज़ कि सबसे ज्यादा जरुरत महसूस हुई वह है सुख, क्यूँकि मनुष्य को सुख प्राप्त हो जाये तो वह संतुष्ट हो जाता है, पर ऐसा होना संभव नहीं है। सृष्टि कि संरचना के उपरांत कुछ न्यूनता जरूर रह गयी थी, लेकिन भगवान शिव ने इन सब न्यूनता को ध्यान में रखते हुए तंत्र-मंत्र-यन्त्र का निर्माण किया, जिससे मानव अपने जीवन कि न्यूनता को समाप्त कर सके। इन्ही में से एक महत्वपूर्ण विद्या है "यन्त्र विद्या" यन्त्र अपने आप में चमत्कारी है, कठिन से कठिन कार्य को भी सम्पन्न करने कि शक्ति यंत्रो में है। यन्त्र तत्वम मैंने इस पुस्तक को इसलिए नाम दिया है क्यूँकि यन्त्र शास्त्र अपने आप में उच्च कोटि का है, और एक असीमित सागर के सामान है, जब तक अंको का अंत नहीं किया जा सकता तब तक यंत्रो के निर्माण का अंत भी नहीं किया जा सकता है। यंत्रो में साक्षात् ईश्वर का निवास होता है, क्यूँकि यंत्रो में अंक, बीज, और पांच तत्वों का समागम होता है, जिसको लिखने हेतु जो विशेष प्रकार कि स्याही और कलम का प्रयोग होता है, वो यन्त्र को शक्ति प्रदान करती है, या यूँ कहे कि देवताओं को स्थान देती है। यन्त्र की आकृति और उनमें छुपे बीज जैसे ह्रीं, श्रीं, लं, रं, क्रीं आदि ही यंत्रो को एक दूसरे से भिन्न करते है। यंत्रो को कुछ विशेष मुहूर्त, नक्षत्र, होरा आदि में ही लिखा जाता है। यंत्रो का प्रयोग कठिन से कठिन कार्यो को सफल कर देता है। यंत्रो से सिद्धि भी प्राप्त की जा सकती है, यंत्रो देवी देवता की सिद्धि प्राप्त करने में सहायक होते है, यंत्र भूत प्रेत नाशक भी होते है। खोये व्यक्ति या वास्तु को वापस पाना, विशेष कार्य सिद्धि, आदि यंत्रो के माध्यम से संभव है।
    Read More
    Specifications
    Book Details
    Publication Year
    • 2019
    Contributors
    Author Info
    • गौरव आर्य का जन्म १९९२ को उत्तर प्रदेश में हुआ। बचपन से शांत और सरल स्वभाव के मालिक रहने के कारण अपनी साधना और पढाई लिखाई में ही समय व्यतीत किया। अपनी प्रारंभिक शिक्षा को पूर्ण करने के उपरांत विज्ञान के क्षेत्र मंत जाने का निर्णय लिया और उत्तर प्रदेश टेक्निकल यूनिवर्सिटी से वर्ष २०१४ में मैकेनिकल इंजीनियरिंग में प्रथम श्रेणी में स्नातक की उपाधि प्राप्त की, बचपन से ही धर्म और ज्योतिष, तंत्र के प्रति झुकाव रहने के कारण, इन गुप्त विधान में ज्यादा समय व्यतीत करने लगे। लेकिन अभियंता होने के कारण कुछ कम्पनी के साथ काम करने के उपरांत मशीन को डिज़ाइन करने का कार्य ४ सालो तक किया, लेकिन अपने व्यक्तित्व और धार्मिक प्रवृत्ति के कारण शिष्यों की संख्या बढ़ने लगी कारणवश अपनी नौकरी को छोड़कर "आस्था और अध्यात्म" नामक एक कंसल्टिंग सर्विस का निर्माण किया।
    Have doubts regarding this product?
    Safe and Secure Payments.Easy returns.100% Authentic products.
    Back to top